Sunday, July 25, 2010

डोली पर बैसल कनिया ( Bride going to her husband's house )

डोली पर बैसल कनियक  चित्र के मधुबनी \ मिथिला चित्रकला शैली  में नाओल गेलअछि| पहिने कनिया के विदाई महफा पर होयत छल | संग में पनिक कलश बहुत शुभ मानल जायत छलय |

3 comments:

मनोज कुमार said...

अद्भुत! इन सब लोक कलाओं को जीवित रखना हमारा फ़र्ज़ है।

मनोज कुमार said...

26.07.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह 06 बजे) में शामिल करने के लिए इसका लिंक लिया है।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

Kusum Thakur said...

बहुत बहुत धन्यवाद मनोज जी !!

 
Share/Save/Bookmark