Wednesday, April 25, 2012

श्री गणेश स्तुति

 
श्री गणेश स्तुति 

गाइए  गणपति जगबंदन। संकर- सुवन भवानी-नंदन। । 
सिद्धि-सदन गज-बदन विनायक। कृपा-सिन्धु, सुन्दर, सब-लायक । । 
मोदक-प्रिय, मुद-मंगल-दाता। बिद्या-बारिधि, बुद्धि-बिधाता । 
माँगत तुलसीदास कर जोरे। बसहिं रामसिय मानस मोरे । । 


- गोस्वामी तुलसीदास-
 
Share/Save/Bookmark