Tuesday, December 14, 2010

देवी स्तुति (जय जय जगजननि देवी)


"देवी स्तुति"

जय जय जगजननि देवी सुर-नर-मुनि-असुर-सेवी ,
भुक्ति मुक्ति दायिनी, भय-हरण कालिका 
मंगल-मुद-सिद्धि-सदनि, पर्वशर्वरीश-वदनि,
ताप-तिमिर-तरुण-तरणि-किरणमालिका 

वर्म, चरम कर कृपाण, शूल-शेल-धनुष-बाण,
धरणि, दलनि दानव-दल, रण-करालिका 
पूतना-पिशाच-प्रेत-डाकिनि-शाकिनि-समेत,
भूत-ग्रह-बेताल-खग-मृगालि-जालिका 

जय महेश-भामिनी, अनेक-रूप-नामिनी,
समस्त-लोक-स्वामिनी, हिमशैल-बालिका
रघुपति-पद परम प्रेम, तुलसी यह अचल नेम,
देहु ह्वै प्रसन्न  पाहि प्रणत-पालिका  


2 comments:

वन्दना said...

मैया रानी को कोटि कोटि नमन्…………बहुत ही सुन्दर स्तुति।

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर !!

 
Share/Save/Bookmark