Thursday, September 30, 2010

Monday, September 20, 2010

A Village Woman

द्वार पर ठाढ़ कुजरनी
मैथिल सबमे किछु जातिक महिला सब घरे-घर जाक तरकारी बेचैत छहि जकरा कुजरनी कहल जायत  छहि |

मैथिलि में कुछ महिलायें घर घर जाकर सब्जियां बेचती हैं जिन्हें 'कुजरनी' कहा जाता है |

A  woman selling vegetables and  holding  pet goats . 

Wednesday, September 15, 2010

फूल लोढ़ैत कनिया

        Bride Picking Flower    

मैथिल सबमे फूल लोढ़क व्यवहार बड पुरान अछि | मधुश्रावणी में पूरा पंद्रह दिन नवव्याहता अपन सखी सब संगे फूल लोढ़ैत छथि आ विषहरा के पूजा करैत छथि |

मैथिल में श्रावण  माह  में नवव्याहता  फूल चुनती हैं और पूजा करती हैं | 

In Maithils, newly wedded brides pick flolwers for worshipping Gods .




Monday, September 13, 2010

The God Ganesha made in madhubani painting style

श्री गणेश
वक्रतुंड महाकाय सुर्यकोटिः समप्रभ | निर्विघ्नं कुरुमे देव सर्वकार्येषु  सर्वदा ||

Monday, September 6, 2010

गंगा स्तुति


"गंगा स्तुति "

प्रातः वंदन करय छी हे गंगे 
कल कल सुनि मोन हर्षित हे गंगे 

दिय दर्शन सब दिन हे गंगे 
हरु विघ्न बस एतबहि हे गंगे 

लहरि लहरि सत राग हे गंगे 
मुग्ध मोन भेल अनुराग हे गंगे 

करू मिनती स्वीकार हे गंगे 
क्षमा माँगय छी दिय सदगति हे गंगे 

नेह निनानिद पुनमति हे गंगे 
कुसुम निहारि भेली धन्य हे गंगे

- कुसुम ठाकुर -
 
Share/Save/Bookmark