Thursday, May 20, 2010

भगवान का भजन

भगवान का भजन 

अच्युतम केशवम कृष्ण दामोदरम 
राम नारायणम जानकी बल्लभम 

कौन कहते हैं भगवान आते नहीं  
तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं 
अच्युतम केशवम..............

कौन कहते हैं भगवान खाते नहीं 
तुम शबरी के जैसे खिलाते नहीं 
अच्युतम केशवम ..............

कौन कहते हैं भगवान सोते नहीं 
माँ यशोदा के जैसे सुलाते नहीं 
अच्युतम केशवम.................

कौन कहते हैं भगवान नाचते नहीं 
गोपियों की तरह तुम नचाते नहीं 
अच्युतम केशवम ....................

5 comments:

Mithilesh dubey said...

बहुत ही खूबसूरत रचना दीदी ।

kunwarji's said...

समर्पण के भाव के लिए उकसाती हुई रचना....

बहुत सुन्दर भाव..

कुंवर जी,

girish pankaj said...

waah, ek aur pyaraa, dil mey utar jaane vala bhajan aabhaar aapakaa.

वन्दना said...

wah wah wah...........yahi to us natkhat ki khoobi hai ki bas prem ka pyasa hai wo........bahut sundar prastuti.

Prabha said...

i recently sung this and learned from a didi here...did not know it is written by you. It was fun to sing ina group..bahut sunder!

 
Share/Save/Bookmark